सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

किसी भी राजनीतिक पार्टी या प्रत्याशी को वोट देने से पहले यह जरूर पढ़ें | भारत के एक महान व्यक्ति के जीवन की एक सच्ची घटना

 


भारत के एक महान व्यक्ति के जीवन की एक सच्ची घटना


94 साल के एक बूढ़े व्यक्ति को मकान मालिक ने किराया न दे पाने पर किराए के मकान से निकाल दिया। बूढ़े के पास एक पुराना बिस्तर, कुछ एल्युमीनियम के बर्तन, एक प्लास्टिक की बाल्टी और एक मग आदि के अलावा शायद ही कोई सामान था। बूढ़े ने मालिक से किराया देने के लिए कुछ समय देने का अनुरोध किया। पड़ोसियों को भी बूढ़े आदमी पर दया आयी, और उन्होंने मकान मालिक को किराए का भुगतान करने के लिए कुछ समय देने के लिए मना लिया। मकान मालिक ने अनिच्छा से ही उसे किराया देने के लिए कुछ समय दिया।

बूढ़ा अपना सामान अंदर ले गया। 


रास्ते से गुजर रहे एक पत्रकार ने रुक कर यह सारा नजारा देखा। उसने सोचा कि यह मामला उसके समाचार पत्र में प्रकाशित करने के लिए उपयोगी होगा। उसने एक शीर्षक भी सोच लिया, ”क्रूर मकान मालिक, बूढ़े को पैसे के लिए किराए के घर से बाहर निकाल देता है।”

फिर उसने किराएदार बूढ़े की और किराए के घर की कुछ तस्वीरें भी ले लीं। 


पत्रकार ने जाकर अपने प्रेस मालिक को इस घटना के बारे में बताया। प्रेस के मालिक ने तस्वीरों को देखा और हैरान रह गए। उन्होंने पत्रकार से पूछा, कि क्या वह उस बूढ़े आदमी को जानता है?

पत्रकार ने कहा, नहीं। 


अगले दिन अखबार के पहले पन्ने पर बड़ी खबर छपी। शीर्षक था, ”भारत के पूर्व प्रधानमंत्री गुलजारीलाल नंदा एक दयनीय जीवन जी रहे हैं”। खबर में आगे लिखा था कि कैसे पूर्व प्रधान मंत्री किराया नहीं दे पा रहे थे और कैसे उन्हें घर से बाहर निकाल दिया गया था। 

टिप्पणी की थी कि आजकल फ्रेशर भी खूब पैसा कमा लेते हैं। जबकि एक व्यक्ति जो दो बार पूर्व प्रधान मंत्री रह चुका है और लंबे समय तक केंद्रीय मंत्री भी रहा है, उसके पास अपना ख़ुद का घर भी नहीं??


दरअसल गुलजारीलाल नंदा को वह स्वतंत्रता सेनानी होने के कारण रु. 500/- प्रति माह भत्ता मिलता था। लेकिन उन्होंने यह कहते हुए इस पैसे को अस्वीकार किया था, कि उन्होंने स्वतंत्रता सेनानियों के भत्ते के लिए स्वतंत्रता की लड़ाई नहीं लड़ी। बाद में दोस्तों ने उसे यह स्वीकार करने के लिए विवश कर दिया यह कहते हुए कि उनके पास जीवन यापन का अन्य कोई स्रोत नहीं है। इसी पैसों से वह अपना किराया देकर गुजारा करते थे।


अगले दिन तत्कालीन प्रधान मंत्री ने मंत्रियों और अधिकारियों को वाहनों के बेड़े के साथ उनके घर भेजा। इतने वीआइपी वाहनों के बेड़े को देखकर मकान मालिक दंग रह गया। तब जाकर उसे पता चला कि उसका किराएदार, श्री गुलजारीलाल नंदा, भारत के पूर्व प्रधान मंत्री थे। 

मकान मालिक अपने दुर्व्यवहार के लिए तुरंत गुलजारीलाल नंदा के चरणों में झुक गया। 


अधिकारियों और वीआईपीयों ने गुलजारीलाल नंदा से सरकारी आवास और अन्य सुविधाएं को स्वीकार करने का अनुरोध किया। श्री गुलजारीलाल नंदा ने इस बुढ़ापे में ऐसी सुविधाओं का क्या काम, यह कह कर उनके प्रस्ताव को स्वीकार नहीं किया।

अंतिम श्वास तक वे एक सामान्य नागरिक की तरह, एक सच्चे स्वतंत्रता सेनानी बन कर ही रहे। 1997 में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी व एच डी देवगौड़ा के मिलेजुले प्रयासो से उन्हें "भारत रत्न" से सम्मानित किया गया। 


जरा उनके जीवन की तुलना वर्तमानकाल के किसी मंत्री तो क्या , किसी पार्षद परिवार से ही कर लें !! 


            

                  सादर नमन्।।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इंदौर में कौन जीतेगा महापौर का चुनाव ? indore exit poll result | election result indore 2022 |

 इंदौर में कौन जीतेगा महापौर का चुनाव ? indore exit poll | election result indore 2022 | election result indore 2022 इंदौर में कौन जीतेगा महापौर का चुनाव ? indore exit poll Created By SarkariMedia

इंदौर नगर निगम चुनाव ताज़ा अपडेट । Indore Municipal Election Result 2022 Live

 *इंदौर नगर निगम चुनाव ताज़ा अपडेट* वार्ड 33 में भाजपा प्रत्याशी मनोज मिश्रा 576 वोट से आगे ।वार्ड 51 में भाजपा प्रत्याशी 700 वोट से आगे वार्ड 85 में कांग्रेस प्रत्याशी सचिन चौहान 50 वोट से आगे। वार्ड 26 में कांग्रेस के कमलेश पटेरिया 141 मतों से आगे - वार्ड 20,21,22,23 और 36 में कांग्रेस को बढ़त - वार्ड 32 में भाजपा के राजेंद्र राठौर 300 वोट से आगे - वार्ड 38 में भाजपा की ममता जोशी 224 वोट से आगे - वार्ड 23 से भाजपा प्रत्याशी 73  वार्ड 24 से भाजपा 29 मतों से आगे वार्ड 31 में भाजपा के बालमुकुंद सोनी 1200 मतों से आगे - वार्ड 66 से भाजपा की कंचन गिदवानी 900 मतों से आगे। - वार्ड 84 में भाजपा प्रत्याशी गुरजीत कौर 1100 मतों से आगे। - वार्ड 22 में कांग्रेस प्रत्याशी राजू भदौरिया 1100 मतों से आगे। - वार्ड 83 में भाजपा के कमल  लड्‌ढा आगे। - वार्ड 76 से कांग्रेस की सीमा जितेंद्र 200 मतों से आगे। - वार्ड 3 से भाजपा की शिखा दुबे ने कांग्रेस की कविता सुराणा पर बढ़त बनाई। - वार्ड 35 से भाजपा के राकेश सोलंकी आगे। - वार्ड 27 से भाजपा के मुन्नालाल यादव आगे। - वार्ड 69 से भाजपा की मीता राठौर कांग्रेस की शि

इंदौर नगर निगम चुनाव ताज़ा अपडेट । Indore Municipal Election Result 2022 Live

 इंदौर नगर निगम चुनाव ताज़ा अपडेट । Indore Municipal Election Result 2022 Live  *बिग ब्रेकिंग प्रदेश सामना* इंदौर नगर निगम चुनाव अपडेट शेख अलीम रुखसाना अनवर दस्तक अनवर क़ादरी राजू भदौरिया यशश्वी अमित पटेल  इन सभी की जीत हुई लगभग तय जल्द होगी घोषणा बड़ी खबर *विधानसभा 2 के कद्दावर नेता चन्दु शिंदे चुनाव हारे* *वार्ड क्रमांक 22 से राजू भदोरिया 1760 मतों से चुनाव जीते यशस्वी पटेल 1305 से आगे योगेंद्र मौर्य कांग्रेस से विजय वार्ड 70 भरत रघुवंशी 2000 से आगे कांग्रेस चिंटू चौकसे 1000 आगे *इंदौर महापौर प्रत्याशी पुष्यमित्र भार्गव 108000 से आगे* 8656 वोट से बबलू शर्मा जी चुनाव जीते*